Delhi : हॉस्पिटलों से आ रही कोरोना बायरस के शिकार हुए मरीजों की शिकायतों को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दी चेतावनी कि !

0

दिल्ली हॉस्पिटलों से आ रही कोरोना बायरस के मरीजों की शिकायतें कि उन्हें बेड नहीं दिए जा रहे है। क्योकि हॉस्पिटलों में बेड़ों की संख्या काम और कोरोना बायरस के शिकार हुए मरीजों की संख्या ज्यादा हो चुकी है। इसलिए ज्यादा मरीज होजाने के कारण ही मरीजों को बेड नहीं दिए जा रहे है। क्योकि मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। और कोरोना बायरस भी महामारी तेजी से फैलाता जा रहा है। कोरोना बायरस के मरीजों की संख्या दिन व दिन बढ़ती जा रही है। इसी कारण हॉस्पिटलों से मरीजों की शिकायतें आ रही है। क्योकि उन्हें बेड नहीं दिए जा रहे है। इन शिकायतों को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दी चेतावनी !

delhi cm arvind kejriwal

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि बेड़ों की  हेरा फेरी करने वालों को सख्त सजा दी जाएगी। साथ ही मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने प्रेस कांफ्रेंस करके उन्होंने कई आदेश जारी किये। मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि जो मरीज संदित है तो उसे अलग हॉल में रखा जय। .और जो मरीज ए सिंटोमेंटिक है। तो उन मरीजों को घर पर ही रहना चाहिए। होस्पीलालों में गंभीर मरीजों के लिए बेड एबेलेबल रहे। इसी परेशानियों को देखते हुए कहा की हर व्यक्ति इस कोरोना बायरस की बीमारी से डरा हुआ है। जिसको अपने ऊपर संदेह होता है वो चेक कराने आजते है और वे भी हॉस्पिटल में भर्ती होने की जिद करते है। इसी हरकत को ध्यान में रखते  हुए। 

मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने आदेश जारी  किया कि जो बेड कोरोना के मरीजों के है वे बेड किसी ओर मरीज को न दिए जाएं। और उन्होंने ये भी कहा कि ये इस कोरोना बायरस से लोग डरे हुए है। तो उन्हें दिलासा देते हुए कहा कि डरने की कोईं बात नहीं है क्योकि जैसे कोई ओर बीमारी आती है और चली जाती वैसे ये  कोरोना बायरस की बीमारी भी उसी तरह की है। इसलिए डरने की कोई बात नहीं है। ये  बायरस की बीमारी भी जैसे आई है वैसे चली भी जाएगी ओर बिमारियों की तरह। लेकिन जो ए सिंटोमेटिक मरीज है और संदिक्त मरीज है ये तो अपने घर पर सही होसकते है। और इस तरह से ये मरीज हॉस्पिटलों में आएंगे तो कैसे काम चलेगा। क्योकि दो करोड़ से भी ज्याद आवादी है लोगों की और ये सभी हॉस्पिटल में एडमिट होंगे तो जगह तो काम पड़ ही जाएगी। इसलिए मेरा कहना मानों कि हम बस कोरोना बायरस से पीड़ित गंभीर मरीजों को बचाना  है इसलिए उन गंभीर मरीजों के लिए हॉस्पिटलों में बेड होना बेहद जरूरी है। 

Leave a Reply