Haryana : Karnal में बजाज फिनसर पर लोगों के साथ धोका धडी का आरोप 

0

हरियाणा में कर्नल में स्थित बजाज फिनसर कंपनीपर लोगों द्वारा यह आरोप लग रहा है कि वह लोगों को 0% ब्याज पर प्रोडक्ट पर लिया जाएगा | मतलब साफ है कि यह बजाज फिनसर  द्वारा जब कोई व्यक्ति है अपने किसी सामान लेना चाहता है जैसे फोन, टीवी, फ्रीज़, वॉशिंग मशीन आदि | सामानों पर जीरो प्रतिशत ब्याज की दर से लोन दिया जा रहा है | जिसके कारण कुछ लोगों ने बजाज फिनसर  कंपनी से लोन लिया |

Bajaj Fincer accused of cheating people

तो आप सोच रहे होंगे कि इसमें यह कंपनी लोगों के साथ किस तरह धोखाधड़ी कर रही है | जब लोगों से पूछा गया कि उनके साथ किस तरह धोखाधड़ी हुई तो उनका कहना था कि उनके खाते में बैलेंस होने के बावजूद भी चेक बाउंस की फीस ली जा रही है जोकि महीने में एक नहीं 5 से 8 बार लगाई जा रही है | एक चेक बाउंस की कीमत ₹590 थी |

कई लोगों ने यह भी कहा कि उन्होंने बजाज फिनसर से ईएमआई पर फ़ोन लिया था जिसकी कीमत ₹20000 थी लेकिन उस व्यक्ति के खाते से कुल ₹57000 काट लिए गए | जब उस व्यक्ति से पूछा कि आपके खाते से  किस तरह से रुपए काटे गए तो उन्होंने बताया कि 1 महीने में 180 बार चेक बाउंस की फीस लगाई है | यह बहुत ही ज्यादा दुखदाई है | जब वह व्यक्ति बजाज फिनसर कंपनी में पहुंचा तो  उसे बताया गया कि यह अमाउंट बैंक द्वारा लगाया गया है  और उन्होंने अपने पक्ष में यह भी बोला कि उनके द्वारा बैंक में किसी भी तरह का चेक नहीं लगाया गया है |

 जब वह व्यक्ति बैंक जाकर पूछताछ करता है तो बैंक वालों का कहना है की लोन देने वाली कंपनी ने यह सारे चार्जेस लगाए हैं इसमें बैंक का किसी भी तरह से कोई योगदान नहीं है | जब वह कंपनी जाता हैतो कंपनी वाले सारी बात बैंक के ऊपर डाल देते हैं | लोगों ने यह भी आरोप लगा रहे हैं यह  बजाज फिनसर कंपनी उनका सिबिल स्कोर खराब कर रही है |

बहुत से ऐसे भी लोग थे उन्होंने ईएमआई पर माइक्रोवेव ओवन लिया था लेकिन जब बाद में पता चला कि उनके कागज पर किसी दूसरे व्यक्ति को वॉशिंग मशीन लोन पर लिए  गए सामान के तौर पर दिखाया गया है | यह लोगों की फर्जी हस्ताक्षर, बिजली का बिल स्वतः से ही लगा दिए जाते हैं |

उन लोगों का यह भी आरोप है कि जब वह अपनी परेशानी लेकर बजाज फिनसर  कंपनी में जाकर पूछताछ करते हैं तो उनसे बदतमीजी और उनके सवालों का जवाब नहीं दिया जाता है  |

source

Leave a Reply