Kundali Bhagya 4 September 2020 Written Update : करण प्रीता से शादी करने का सच कबूल कर पायेगा ?

0

Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌4 ‌September‌ ‌2020‌ ‌Written‌ ‌Update,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌4 ‌September‌ ‌2020,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌4 ‌September‌ ‌2020‌ ‌Spoiler‌ ‌Alert,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌4 ‌September‌ ‌full‌ ‌episode‌ ‌ Zee5,‌ ‌ Zee‌ ‌TV,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌, Preeta,Mahira, Sharlin, Karan

Kundali Bhagya 4 September 2020 Written Update

कुंडली भाग्य के पिछले एपिसोड में, प्रीता NGO अधिकारीयों को लेकर लूथरा हाउस पहुँच जाती है | वहीँ प्रथ्वी प्रीता के घर नाशे की हालत में, सरला से प्रीता की उसकी शादी कराने के लिए कहता है | प्रथ्वी सरला को एक्सचेंज ऑफर देता है | सरला का हाथ प्रथ्वी द्वारा पकडे देख सृष्टि प्रथ्वी पर चिल्लाती है | और प्रथ्वी को धाके मारकर घर बाहर निकलने के लिए कहती है | वहीँ प्रीता भी माहिरा को करण को मेरा करण ना बोलने के लिए वार्निंग देती है | करण भी प्रीता को स्वीकार करने से मना कर देता है और प्रीता का बैग उठाकर फैंक देता है | 

Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌3 ‌September‌ ‌2020‌ ‌Written‌ ‌Update : प्रीता अपने अधिकार के लिए पहुंची लूथरा हाउस, करण की रिक्वेस्ट को किया खारिज

Kundali Bhagya 2 September 2020 Written Update : प्रीता ने की लूथरा के घर में वापसी, प्रीता लूथरा के घर में अपनी जगह बना पाएगी?

Kundali Bhagya 4 September 2020 Full Episode

कुंडली भाग्य नाटक में आज, प्रीता जब माहिरा से झगड़ रही होती है तब करण माहिरा की साइड लेता है| NGO महिला कहती है, तुम पराई औरत के लिए लड़ रहे हो, तुमको अपनी पत्नी का साथ देना चाहिए | इस ऋषभ कहता है, “देना तो चाहिए |” जिसे सुनकर NGO महिला ऋषभ को सच्चा बताती है | तब NGO कर्मचारी ऋषभ से पूछती है की करण की शादी प्रीता से हुई है ? इस ऋषभ जबाब देता है, “हाँ, हुई तो है |” Kundali Bhagya 7 September 2020 Written Update : लूथरा हाउस पहुंची पुलिस, क्या प्रीता गिरफ्तार हो जाएगी ?

इस पर शर्लिन NGO कर्मचारी से कहती है, “दरसल मेरे पति और प्रीता अच्छे दोस्त है इसलिए उसका साथ दे रहे है | ऋषभ के लिए भाई से ज्यादा दोस्ती जरुरी है |” शर्लिन के इस जबाब पर करण कहता है , “ऋषभ सबसे ज्यादा मेरे से प्यार करता है तो झूठ मत बोलो |” इस पर रमोना करण को समझाने की कोशिश करती है, तो करण रमोना की बात को ख़ारिज कर देता है |

प्रीता करण से कहती है, “अगर तुमको झूठ से नफरत है तो तुमने मुझसे शेहरे की आड़ में शादी नहीं की थी | तुमको झूठ से नफरत है, तो तुम ही सच बोलो करण लूथरा |” 

NGO महिला राखी से कहती है, “तुम तो सास हो, माँ जैसे ही हो तो तुमने क्यों नहीं रोका |”, NGO महिला ऋषभ और कीर्तिका से भी कहती है की, अपने भाई को क्यों नहीं रोका ? इस पर करण NGO महिला को किसी भी तरह की सफाई देने से इनकार कर देता है |

करण प्रीता से बोलता है, हम कभी दोस्त थे, तो तुम यहाँ से इज्जत से चली जाओ | वरना जो भी होगा उसकी जिम्मेदार तुम होगी | इस प्रीता मना कर देती है और करण पुलिस को फ़ोन कर बुलाता है | NGO महिला कहती है, आपने अच्छा किया पुलिस को बुला लिया | पुलिस की जरुरत तो हमें है | 

करण प्रीता से इस घर में आने के लिए पछताने को कहता है और साथ ही NGO महिलाओं से उनसे माफ़ी भी मांगेंगे | इस तरह की बात बोलता है | 

वहीँ, राखी कहती है, प्रीता इस घर के लोगों से प्यार करने वाली लड़की को, हमारे घर की इज्जत की कोई परवाह नहीं | प्रीता ने सबके सामने हमारी घर की इज्जत उछाली | उसको ऐसा नहीं करना चाहिए था | तभी वहां रमोना और करीना आ जाती है | रमोना राखी से कहती है, “ये वहीँ लड़की जिसके लिए तू प्रीता-प्रीता करती नहीं थकती थी |” इस करीना रमोना को राखी पर ना इल्जाम लगाने के लिए कहती है, और कहती है, “राखी भोली है जो हाल बैटन में आ जाती है |” आगे कहती है, “प्रीता को पता था इस घर में एक भाभी है जो उसकी बातों में आ जाएगी |” 

करीना राखी से कहती है, किस तरह प्रीता राखी आंटी बोलने वाली राखी माँ बोल रही थी जिससे राखी को दया आ जाए और उसको रोकले | आगे कहती है, जब उसका दाव नहीं चला तो, NGO वालों को ले आई इस घर में घुसने के लिए | और करण पर अपना हक़ जताएगी | राखी करीना से कहती है, “मुझे हैरानी हुई इस बार की प्रीता ऐसा कुछ कर सकती है |” और फिर रमोना भी राखी से दिल दुखाने के लिए माफ़ी मांगती है | 

राखी कहती है, “जब घर के सभी लोगों ने मुझे समझाया | तब मैंने बात नहीं मानी | कोई भी मेरे घर के मान सम्मान के साथ खेले तो मैं माफ़ नहीं कर पाऊँगी |” और राखी प्रीता कभी उसका दिल नहीं जीत सकेगी | करीना बोलती है, अगर प्रीता की शादी हो गयी होती, तो हम कितने खुश होते | 

वहीँ, सरला प्रथ्वी से कहती है, अच्छा हुआ तुम्हारी शादी प्रीता से नहीं हुई | मुझे लगता था की तुमसे अच्छा लड़का प्रीता को नहीं मिल सकता था | सरला कहती है, तुम वैसे नहीं हो जैसा मैंने सोचा था | सामने से कुछ और पीछे कुछ और | सरला कहती है, करण तुमसे लाख गुना अच्छा है | उसका कम से कम एक चेहरा तो है | सरला प्रथ्वी से कहती है, तुम एक घटिया और गिरे हुए इन्सान हो | कहती है, प्रीता का भाग्य अच्छा है जो करण तुम्हारी जगह आ गया | बच गयी मेरी बेटी |

सरला सृष्टि से प्रथ्वी को बाहर फैंकने के लिए कहती है | जब सृष्टि प्रथ्वी को बाहर निकालकर दरवाजा बंद करती है , तभी प्रथ्वी दरवाजा खुलकर गुस्से अन्दर आता है | सरला से बोलता है, तुम लोग समझते क्या हो | जब चाह बाहर निकाल दिया | जब चाह बेइज्जती कर दी | आगे कहता है , मेरी बेइज्जती का मतलब नर्क के दरवाजे खोलना | और खून के आंसू रोलने की धमकी देता है | आगे कहता है तुम सबसे नफरत करता हूँ |

प्रथ्वी कहता है, मैं यहाँ से प्रीता के बिना नहीं जाऊंगा | और प्रीता को घर में ढूंडने लगता है | जब घर के सदस्य रोकने की कोशिश करते है तब सबको धक्का मारके दूर फैंक देता है | फिर जानकी प्रथ्वी के पैर पर फूलदान फैंक कर मार देती है | सृष्टि और सभि९ लोग मिलकर उसको घर से बाहर निकाल देते है | सरला प्रथ्वी से उसका विश्वास मानाने के लिए कहती है की, प्रीता लूथरा हाउस गयी है यहाँ नहीं है | 

आगे कुंडली भाग्य नाटक में, करण कहता है जिसको लगता है प्रीता सही है उसका दिमाग ख़राब हो गया है | प्रीता एक नंबर की लालची लड़की है | दादी कहती है, प्रीता तब कुछ क्यों नहीं बोली जब राखी उसको घर से जाने के लिए कह रही थी | आगे कहती है उसका वो छलकपट है , वो | 

करण कहता है, “तुम लोगों ने वो चेहरा देख लिए जो मैं पहले ही देख चूका हूँ |”

शर्लिन दरवाजे के बाहर प्रथ्वी को देख लेती है | और वहां से चली जाती है | और समीर भी भाई के पास जाने कहकर वहां से चला जाता है |

ऋषभ करण को समझाने की कोशिश करता है की अगर इस घर में पुलिस आई, तो वो प्रीता का साथ देगी | करण ऋषभ से बोलता है, जो इस एरिये में इंस्पेक्टर आयीं है, वो मेरी बहु बड़ी फेन है | तो प्रीता का साथ नहीं देगी | तभी समीर ऋषभ से पूछता है , प्रीता को इंसाफ नहीं मिलेगा | इस पर ऋषभ कहता है, मिलेगा, लेकिन सबको समझाते-समझाते मेरा दिमाग ख़राब हो गया है |

NGO महिला प्रीता से बोलती है, तुम परेशान ना हो पुलिस हमारी ही साइड लेगी | तभी दूसरी महिला कहती है हम एक केस हार गए थे | वो लड़की सही नहीं थी | उस केस में लड़की लालची निकली | लेकिन तुम ऐसे नहीं हो |  

Leave a Reply