Kundali Bhagya 1 September 2020 Written Update – सरला ने निकाला प्रीता को घर से बाहर,प्रीता की जिंदगी में आया नया मोड़

0

Kundali Bhagya 1 September 2020 Written Update, Kundali Bhagya 1 September 2020, Kundali Bhagya 1 September 2020 Spoiler Alert, Kundali Bhagya 1 September full episode Zee5, Zee TV, Kundali Bhagya

Kundali Bhagya 1 September 2020 Written Update

कुंडली भाग्य के पिछले नाटक में प्रथ्वी सरला को बताने की कोशिश करता है की लोग प्रीता के बारे में क्या सोचते है की , प्रीता एक चालबाज और धोकेबाज लड़की है | प्रथ्वी सरला को बताने की कोशिश करता है की लड़की की दो बार शादी हो गयी | तब भी लड़की अपने घर पर ही है , शायद लड़की में कोई कमी है | प्रथ्वी सरला को मानाने की कोशिश करता है की इतना होने के बाबजूद भी में प्रीता से शादी करने को तैयार हूँ |

जानकी प्रथ्वी को बाहर निकालने की कोशिश करती है जिस पर प्रथ्वी जानकी को धक्का दे देता है | जिस पर सरला गुस्से में प्रथ्वी को बाहर निकाल देती है |

Kundali Bhagya 1 September 2020 Full Episode

कुंडली भाग्य नाटक के लेटेस्ट एपिसोड में, प्रीता अपनी माँ को बताती है की किस तरह शर्लिन और माहिरा महेश को मारना चाहते है | इस पर सरला प्रीता से बोलती है की, “शर्लिन और माहिरा उस घर को बर्बाद और महेश जी को मारना चाहते है जिसका विश्वास कोई नहीं कर रहा | तू फिर भी उस घर में जाना और अपनी जान देना चाहती है | तू वो करना चाहती है जिससे तेरी माँ को दर्द होगा |” Kundali Bhagya 2 September 2020 Written Update : प्रीता ने की लूथरा के घर में वापसी, प्रीता लूथरा के घर में अपनी जगह बना पाएगी?

सरला कहती है , “तू उस घर में ढाल बनकर खड़ी रहना चाहती है | तेरी उस घर में बेइज्जती होती है फिर तू उस घर में जाना चाहती है | तू उस घर में जाना चाहती है जिसमें तेरी माँ की बेइज्जती हुई है | जिस लडके ने रात को शादी के जोड़े में रास्ते में छोड़ दिया था तू उस लड़के से शादी करने चली गयी |”

दूसरे सीन में – शर्लिन और माहिरा कमरे में आती है और शर्लिन कहती है मजा आ गया, अरोड़ा बहन को रोते हुए | माहिरा कहती है , मैं कब से प्रीता को रोते हुए देखना चाहती थी | प्रीता ने मेरा सब कुछ छीन लिया, करण भी | माहिरा शर्लिन से कहती है , मैं तुमसे माफ़ी मांगना चाहती हूँ की बदतीमिजी से बात की | शर्लिन माहिरा को आगे से इस तरह से बात ना करे | इस शर्त पर माफ़ करने को कहती है |

शर्लिन कहती है, इस तरह से मेरे बात करोगी तो सब को शक हो जायेगा | की हम दोनों के बीच कुछ खिचड़ी चल रही है | शर्लिन माहिरा को करण को बताने को कहती है की तुमने दो बार उसके लिए अपनी जान खतरे में डाली है | और कहती है, आज तुम खुश होना की लूथरा परिवार ने उसे धक्के मारकर बाहर निकाल दिया | जब प्रीता अपने घर जाएगी तब उसको वहां से भी बाहर निकाल दिया जायेगा | 

तीसरे सीन में – सृष्टि अपनी माँ से कहती है की आप ऐसे कैसे बोल सकती है | आप माँ हो तो दी से ऐसे बात नहीं कर सकती है | आगे कहती है , दी ने आपको सब कुछ बताया है ना की उन्होंने क्यों शादी की | और कहती है आपको इसलिए  बुरा लग रहा है की उन्होंने आपके पसंद के लड़के से शादी नहीं की थी |

आगे नाटक में – सरला प्रीता को बाहर निकल जाने के लिए कहती है | और आगे कहती है की मैं माँ हूँ तुम दोनों की , मुझे हक़ है अगर बच्चे गलती करेंगे, तो में डांट भी सकती हूँ | सरला कहती है, मैंने 9 महीने पेट में पाला है | इस बीच सृष्टि में बीच में बोलती है तो सरला थप्पड़ मार देती है | सरला प्रीता को चौखट के अन्दर पैर रखने को मना कर देती है | जानकी जैसे ही फिर से सरला को रोकती है तब सरला कहती है , मैं कुछ नहीं कर सकती | मैं उन फेरों वापस नहीं पलट सकती | कम से कम इसको घर से बाहर तो निकाल सकती हूँ | फिर सरला सबको इस बारे में बात ना करने को कहती है |

कुंडली भाग्य के नाटक में आगे – वहीँ प्रथ्वी करण का फोटो जलाकर उसको बर्बाद करने की कसम खाता है |

वहीँ सृष्टि भी अपना बेग पैक करके घर से जाने लगती है और सरला से कहती है आप डांटते रहिये इस खाली घर को | सृष्टि जाते – जाते जानकी से पूछती है की “आपको चलना है हमारे साथ या इस हिटलर के साथ यहीं रहना है |” और सृष्टि प्रीता का हाथ पकडकर वहां से ले जाती है | और प्रीता रोते -रोते सृष्टि से कहती है मुझे माँ चाहिए | वहीँ सरला रोने – रोने लगती है जिसकी आवाज सुनकर प्रीता वापस भागते हुए आती है और अपनी माँ के गले लग जाती है , और सरला सृष्टि को भी गले लग जाने के लिए हाथ देती है |

वहीँ शर्लिन जश्न मनाती है जिस पर माहिरा पूछती है “क्यों कर रही हो | मेरी शादी करण से तब भी नहीं हुई थी और ना आज |” शर्लिन माहिरा से बोलती है “तो अब करा देते है |” शर्लिन कहती है मैं दादी के कमरे में जा रही हूँ  फिर थोड़ी देर बाद तुम वहां आ जाना |

आगे कहानी में – दादी , करीना , रमोना कमरे बैठे हुए होते है | दादी बोलती है की, “आज मुझे शांति मिली है जब राखी ने प्रीता को घर से निकाल दिया |” करीना बोलती है “मैं बहुत खुश हूँ | मैंने काफी बार भाभी की समझाया की प्रीता आची लड़की नहीं | लेकिन भाभी को पता चल गया और उन्होंने खुद प्रीता को घर जाने के लिए बोला |” 

तभी शर्लिन वहां आ जाती है – शर्लिन कहती है , प्रीता को फिर से इस घर में आने से नहीं रोक सकते | प्रीता ने मेरी शादी रोकने की बहुत कोशिश की | महिरा ये सब कमरे के बाहर खड़े होकर सुनती है | शर्लिन सब से कहती है , माहिरा डीपरेसन महसूस कर रही है | तभी माहिरा कमरे के बाहर आ जाती है | तभी दादी माहिरा से कहती है तू अपने आप को अकेला मत समझ | दादी कहती है , इस घर की बहू और करण की पत्नी तुम बनोगी |

दूसरी तरफ सरला प्रीता को समझाती है की स्वाभिमान से ऊपर कुछ भी नहीं है | तूने महेश को माहिरा और शर्लिन से बचाने के लिए शादी की | लेकिन फिर क्यों तू चुपचाप वहां से सबकुछ सुनकर आ गयी | सरला प्रीता से कहती है , मैंने तुझे यही सिखाया है की “तू शर्लिन और माहिरा की कटी जली सुनकर वहां से चली आई |” 

सोर्स

Leave a Reply