Kundali Bhagya 15 October 2020 Written Update:पृथ्वी ने प्रीता को शादी करने के लिए मजबूर करने की योजना बनाई

1

Kundali Bhagya 15 October 2020 Written Update

कुंडली भाग्य के पिछले नाटक में, जानकी गुंडों से बचने के लिए टेबल के नीचे छिप जाती है| वहीँ प्रथ्वी, पवन को प्रीता से ठीक तरह से नहीं पैशाने के करण नाराज होता है और कहता है की प्रीता बहुत अच्छी है वो मुझसे प्यार करती है| जब दोनों भाई वापस जा रहे होते है तब उनको पता चलता है की जानकी कमरे से भाग गयी है| जानकी के इस तरह से गायब होने पर प्रथ्वी बहुत परेशान होता है की उसको पिछला याद ना आ जाये| जानकी देखती है की सृष्टि के ऊपर -पवन ने बन्दुक लगा रक्खी है जिसको देखकर, जानकी सृष्टि को बचाने का फैसला करती है और पवन के ऊपर फूलदान फैंककर मारती है| जिसको देखकर प्रथ्वी भी जानकी के ऊपर लकड़ी फैंककर बेहोश कर देता है इसी बीच जानकी को पिछली यादे याद आने लगती है की किस तरह प्रथ्वी ने उसको मारा था| वहीँ करण प्रीता की अलमारी देखता है और सोचता है की प्रीता कहीं नहीं गयी क्योंकी उसके सभी कपडे यहाँ पर है| आगे सोचता है की वो मुहँ दिखाई की रस्म के बाद अपने वापस आ जाएगी|        bollypluse, latest bollywood news, hindi news, bollypluse telegram channel, zee5,

Kundali Bhagya 15 October 2020 Full Episode

आने वाले कुंडली भाग्य नाटक में, जानकी को होश आ जाता है और वह सृष्टि को बताती है की वो प्रथ्वी को क्यों पसंद नहीं करती थी और यह भी बताती है की शर्लिन और प्रथ्वी के बीच क्या रिश्ता है| शर्लिन का नाम सुनकर पवन जानकी से कहता है की तुम शर्लिन को कैसे जानती हो? और वह अपने भाई के खिलाफ ना बोलने को कहता है|

वहीँ प्रीता, प्रथ्वी को किसी पर और उस पर दुबारा हाथ ना उठाने की वार्निंग देती है| प्रथ्वी, प्रीता से कहता है की तुमने मुझे “जी” कहा? प्रीता मना कर देती है की वो उसको एक गली का गुंडा मवाली समझती है, बस यही इज्जत रह गयी है तुम्हारी मेरी नजरों में| आगे कहती है की करण ने मुझसे हजार बार कहा था की प्रथ्वी पर भरोसा मत करो|

प्रथ्वी, प्रीता को बिस्तर पर फेंक देता है और कहता है की आपकी बस कुंडली भाग्य में सिर्फ मैं हूँ| आगे कहता है की एक बार मुझसे शादी कर लो| फिर बाद में मुझसे से प्यार हो जायेगा| जैसे ही प्रथ्वी कहता है की जब हमारी शादी हो जाएगी, इतना कहने पर ही प्रीता प्रथ्वी को धक्का दे देती है और कहती है की मेरी शादी एक बार नहीं 2 बार हो चुकी है और मेरे पति का नाम करण लूथरा है| इस पर प्रथ्वी कह्र्ता है नहीं ”प्रथ्वी मलोह्त्रा”| तब प्रीता पर्दे में से रोड निकाल लेती है और प्रथ्वी को पीटने लगती है| फिर बाद में जार पैरों पर फैंक कर मार देती है और प्रथ्वी जमीन पर गिर जाता है और चिल्लाने लगता है| प्रथ्वी की आवाज सुनकर पवन कमरे की तरफ भागता है|

पवन प्रथ्वी के पास जाता है उतने में प्रीता मौका पाकर कमरे में दोनों को लॉक कर भाग जाती है| वहीँ सृष्टि और जानकी भी सोचती है जब उस गुंडे को अपने भाई की जरुरत है तो हमारी प्रीता को कितनी जरुरत होगी| जानकी और सृष्टि भी प्रीता को बचाने कमरे की तरफ जा रही होती है उनको प्रीता बीच में ही मिल जाती है|

प्रीता, जानकी को ठीक देखकर बहुत खुश होती है तब जानकी भी प्रीता और सृष्टि को बताती है की वो क्यों प्रथ्वी को पसंद नहीं करती थी और क्यों नहीं वो प्रीता की शादी प्रथ्वी से होने देना चाहती थी| वो बताती है, की रोके वाले दिन शर्लिन और प्रथ्वी को गले मिलते देख लिया था और तब शर्लिन ने मेरे सिर पर डंडा मारा था जिससे मेरी यादाशत चली गयी थी| आगे बताती है उन दोनों ने मुझे कार से कुचलने की भी कोशिश की थी| जिसके बाद मुझे लकवा मार गया था फिर ये बात में किसी को भी नहीं बता सकी| आगे बताती है की प्रथ्वी ने फिर से मुझे मारने की कोशिश की थी|

वहीँ शर्लिन, माहिरा से कहती है की अगर तुम करण को पाना चाहती हो तो बस तुम्हारी मदद मेरी माँ ही कर सकती है| आगे कहती है की अगर उन दोनों ने एक दूसरे को प्यार का इजहार कर दिया तो दोनों को भगवान भी अलग नहीं कर सकते| माहिरा, शर्लिन की माँ से मदद मांगती है और पुरानी बातो के लिए माफ़ी भी| माहिरा के इस तरह के बर्ताब से शर्लिन की माँ हैरान और खुश हो जाती है और कहती है की करीना मेरी बहुत अच्छी मित्र है और वो मेरी बात नहीं टलेगी|

वहीँ दूसरी तरफ पवन, प्रथ्वी से प्रीता को ना खोलने की बात कहता है और आगे कहता है जिस हाथो को अपने खोला था उन्ही हाथो से आपको पीट के चली गयी और जिन पैरो को खोला था उन्ही पैरो से वो भाग गयी है| फिर दोनों भाई दरवाजा खोलने की कोशिश करते है लेकिन नहीं खुलता है| तब वे जोर- जोर से चिल्लाते है बाहर बैठे गुंडे आवाज सुनकर आ जाते है और दरवाजा खोल देते है|

बाद में पता चलता है की वे तीनो पीछे के रस्ते से होकर भागे होंगे| जैसे प्रीता कार चालू और जानकी कार में बैठने वाली होती है वहां पर पवन और प्रथ्वी के गुंडे आ जाते है| जानकी सब पर पत्थर फैंक कर मारने लगती है|                    

1 COMMENT

Leave a Reply