Kundali Bhagya 27 October 2020 Written Update: प्रीता ने करण कहा की, “तुम हैंडसम नहीं हो”

0

Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌27 October ‌2020‌ ‌Written‌ ‌Update,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌27 October ‌2020,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌27 October ‌2020‌ ‌Spoiler‌ ‌Alert,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌27 October ‌full‌ ‌episode‌ ‌ zee anmol kundali bhagya natak Zee5,‌ ‌ Zee‌ ‌TV,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌, Preeta,Mahira, Sharlin, Karan

Kundali Bhagya 27 October 2020 Written Update

कुंडली भाग्य के पिछले नाटक में, माहिरा, प्रीता को जिंदगी भर पछताने के लिए कहती है| और प्रीता, माहिरा का बैग उठाकर नीचे सबके सामने ले आती है| माहिरा, करण से लिपटकर घर ना जाने के लिए कहती है| करण, माहिरा से कहता है की जिंदगी बहुत बड़ी है और तुमको मुझसे भी बहुत अच्छा लड़का मिलेगा| माहिरा, करण के कसके पकड लेती है फिर प्रीता, माहिरा का हाथ पकड़कर घर से बाहर निकाल देती है| फिर माहिरा गुस्से से फ्लावर स्टैंड फैंक देती है| जिसकी आवाज सुनकर घर के सभी लोग डर जाते है| प्रीता, अपनी माँ को फ़ोन करके खुश खबरी सुनती है की आपकी बात राखी माँ को इतनी दिल में बैठ गयी और उन्होंने ने माहिरा को घर से बाहर निकाल दिया है| जिसे सुनकर अरोरा परिवार बहुत खुश होते है| वहीँ शर्लिन, प्रथ्वी के घर रात में पहुँच जाती है और प्रथ्वी को प्रीता के साथ कुछ भी करने की कोशिश की तो मैं तुम्हारी मदद नहीं करुँगी| 

https://news.google.com/publications/CAAqBwgKMIXNmgswn9eyAw
https://news.google.com/publications/CAAqBwgKMIXNmgswn9eyAw

Kundali Bhagya 27 October 2020 Full Episode 

कुंडली भाग्य के आज के नाटक में, करण, प्रीता को मजाकिया ढंग से परेशान करता है| तभी प्रीता करण से कहती है की जब भी मेरी नींद कच्ची रह जाती है तब में नींद में चलने लगती हूँ और चाकू ढूंड कर जो भी मुझे मिलता है उसमे मार देती हूँ इतना सुनकर करण डर जाता है और फिर हसने लगता है और कहता है की कमरे में चाकू ही नहीं है|

वहीँ करीना समीर के कमरे में पहुँच जाती है और समीर से कहती है की आज कल तुम किसी की सुनते नहीं हो| और तुम सृष्टि के साथ आज पार्टी में कुछ ज्यादा ही रोमांटिक हो रहे थे| करीना समीर को धमकी देती है की तुम यहाँ काम करने आये थे तो काम करो| वरना तुमको तुम्हारे गांव भेज दूंगी| तभी सृष्टि का फ़ोन आता है और करीना देख लेती है और सृष्टि को फ़ोन को कट कर देती है| ऐसा करने पर सृष्टि प[अरेशन हो जाती है और सोचने लगती है की समीर तो कभी मेरा फ़ोन कट नहीं करता| शायद करीना मेम सामने या आसपास होंगी| आगे सोचती है की कहीं ऐसा तो नहीं करीना मेम ने खुद ही फ़ोन कट कर दिया हो| सृष्टि अपने आप से कहती है की करीना मेम ऐसा क्यों करती है हम और समीर कितने अच्छे दोस्त है वो हमें क्यों अलग करना चाहती है| यह सभी बाते सरला सुन लेती है| और सृष्टि डर जाती है|

सरला सृष्टि को उसकी पानी की बोतल देने कमरे में आई होती है| और फिर वहां से चली जाती है| सरला, सृष्टि के कम्र्रे से बाहर खड़े होकर सोचती है की मैं सृष्टि को लूथरा परिवार से दूर रखना होगा| सरला ये नहीं चाहती है की जो प्रीता के साथ हुआ वाही सृष्टि के साथ भी हो| आगे सोचती है की अभी तो प्रीता को और भी लड़ाई लड़नी है और इस लड़ाई में उसके पति करण का भी साथ नहीं है प्रीता इस लड़ाई में अकेली पड़ा गयी है| 

वहीँ करण की रात में आंखे खुल जाती है और प्रीता को निहारने लगता है| करण प्रीता के लिए ac बंद कर देता है| और प्यार से प्रीता को चादर से ढक देता है और पास में आकर प्रीता के बालों में हाथ फेरने लगता है| और अपने आप से कहता है क्यों करण  लूथरा ये तुझे प्रीटी लग रही है और आगे मन ही मन सोचता है की जब गर्मी लगेगी तबै अपने आप रजाई निकाल देगी|

अगले दिन सुबह कुंडली भाग्य नाटक में, ऋषभ सुबह उठता है और शर्लिन, ऋषभ को कॉफ़ी के लिए पूछती है शर्लिन इस लिए पूछती है की ऋषभ उससे ये ना पुच सके की वो रात भर कहाँ थी| ऋषभ, शर्लिन से पूछता है की तुम रात भर कहाँ थी| इसे सुनकर शर्लिन डर जाती है और बताती है की वो माहिरा के साथ थी| 

वहीँ प्रीता भी उठती है और देखती है की उठने में लेट हो गयी है और कहती है मुझे रात भर नींद भी नहीं आ रही थी क्योंकी कमरा बहुत ठंडा था जब वो AC देखती है वो बंद होती है| प्रीता करण को देखती है लेकिन वो पहले ही उठ चूका होता है| और उससे पता चल जाता है की करण ने ही AC बंद की है की मैं आराम से सो सकूँ| प्रीता को याद आता है की आज मेरी मुहँ दिखाई है| प्रीता कमरे से जा रही होती है तब वह देखती है की करण बालकनी में सो रहा होता है| प[फिर उसके करण के साथ बिताये रोमांटिक यादे दिमाग में आने लगती है रोमांटिक वाली|  

प्रीता, करण की तरफ बढती है लेकिन उसे याद आता है की उसे तैयार होना है| और तैयार होने चली जाती है|

वहीँ ऋषभ, शर्लिन से कहता है जो कुछ भी हुआ उसके बाद भी तुम माहिरा से मिलने चली गयी| आगे कहता है की तुमको किससे रिश्ता रखना है या दोस्ती है करनी है इसके लिए मैं तुमको कभी नहीं रोकूंगा| ऋषभ, शर्लिन से कहता है की करण नहीं मिला तो उसने हमारे परिवार के साथ क्या किया| आगे कहता है की जो भी मैं तुमको चेतावनी दे रहा हूँ उसके पीछे कोई ठोस वजह है जो तुमको बहुत जल्दी पता चल जाएगी| ऋषभ वहां से चला जाता है| और शर्लिन अपने आप से कहती है की ऋषभ से बचके रहना पड़ेगा| ये जैसा दीखता है वैसा है नहीं| शर्लिन आगे कहती है की ऋषभ को अच्छा लगे या ना लगे, लेकिन मैं करण की जोड़ी तोड़कर रहूंगी|

वहीँ दूसरी तरफ प्रीता तैयार होकर बाहर आती है और कहती है की तुझे अलार्म लगाकर सोना चाहिए था| प्रीता अपने बेक लेस्स बांधने की कोशिश करती है लेकिन बंधते नहीं है ये सब देखकर करण डोरी बांधने के लिए पास आता है तब प्रीता पूछती है की क्या कर रहे हो| करण बताता है मदद कर रहा हूँ, लेकिन प्रीता मदद के लिए मना कर देती है| आगे करण कहता है की तुम्हारी मुँह दिखाई की रस्म है देर हो जाएगी| इसलिए मदद कर रहा हूँ|

करण, प्रीता की डोरी बांधने लगता है लेकिन डोरी बंधाते-बंधाते दोनों एक दूसरे को प्यार से देखने लगते है|  

Leave a Reply