Kundali Bhagya 28 October 2020 Written Update: प्रीता ने करण से कहा,”मेरी रजामंदी के बिना मुझे हाथ मत लगाया करो”

0

Kundali Bhagya 28 October 2020 Written Update

कुंडली भाग्य के पिछले नाटक में, करीना, समीर को धमकी देती है की तुम सृष्टि से दूर रहो| और साथ ही वो समीर को यहाँ जिस काम से आया वाही काम करने को कहती है वरना उसे वापस गाँव भेजने की धमकी देती है| वहीँ करीना सृष्टि का कॉल कट कर देती है| जिसके बाद सृष्टि परेशान होने लगती है और सोचती है की समीर कभी ऐसा नहीं करता है आगे सोचती है शायद करीना मेम आस पास है या करीना मेम ने ही कॉल कट की होगी| वहीँ ऋषभ भी सुबह उठता है और शर्लिन से पूछता है की तुम रात भर कहा थी शर्लिन ऋषभ को बताती है की वो माहिरा के पास थी|

वहीँ करण भी प्रीता को ठण्ड में ठिठुरता देख AC बंद कर देता| सुबह प्रीता की आंख खुलती है और वो इधर-उधर करण को देखती है लेकिन उसको करण बालकनी में सोया हुआ होता है|        

Kundali Bhagya 28 October 2020 Full Episode

कुंडली भाग्य के आज के नाटक में, प्रीता, महेश जी की पास जाती है और कहती है की आप जल्दी ठीक हो जाइये| तभी राखी भी कमरे में आ जाती है और प्रीता राखी को थैंक यू बोलती है माहिरा को घर से बाहर निकालने के लिए| राखी प्रीता से कहती है जो मैंने कदम उठाया वो घर की भलाई के लिए किया| हां, लेकिन ये कदम उठाने में थोड़ी सी देर हो गयी| राखी प्रीता को किचन में जाकर कुछ मीठा बनाने को कहती है और प्रीता वहां से चली जाती है|

राखी, महेश से कहती है की, आप भी प्रीता को पसंद करते और मैं भी|} आगे कहती है की जब भी मैंने प्रीता पर विश्वास किया तब उसने मेरा विश्वास तोड़ दिया| आगे कहती है की मैंने उसको पहले जैसा प्यार करने की कोशिश की| और फिर वहां से चली जाती है|

वहीँ प्रीता, किचन में खाना पका रही होती है तभी वहां करण आ जाता है और प्रीता सुगर के लिए पूछती है जिस पर करण हाँ, कहता है और आगे कहता है की मेरी एक गर्लफ्रेंड थी उसका नाम भी सुगर था| करण कुछ लेने के लिए किचन में इधर-उधर जाता है जिस के बीच उसका प्रीता की कमर पर टच हो जाता है जिस पर प्रीता करण से कहती है की तुम मुझे इस तरह मत छुआ करो और आज डोरी बंधाते समय भी तुमने मुझे टच किया था| आगे कहती है मैं ये नहीं कह रही की husband-wife के बीच टच नहीं होता| आग कहती है की टच होता है लेकिन मेरी रजामंदी के बिना नहीं| तभी करण प्रीता का हाथ पकड़कर अपनी तरफ खींच लेता है और कहता है की मैंने ऐसे टच किया था|

करण, प्रीता का चेहरा पकड़कर अपन चेहरे की तरफ लाता है और कहता है की मैं तुमको ऐसे टच नहीं करूँगा जब तक तुम्हारी रजामंदी ना हो| और फिर वहां से चला जाता है| जब करण किचन में से निकल रहा होता है शर्लिन दरवाजे पर खड़ी होती है| तभी शर्लिन किचन में प्रीता के पास आ जाती है और प्रीता से कहती है की, इतनी देर से जागी हो| किसी के सपने देख रही थी या दिखा रही थी| 

शर्लिन, प्रीता से कहती है की जब बड़े सामने खड़े हो| तब प्रीता कहती है की बड़े कौन बड़े और तुम्हरी काहे की इज्जत| आगे कहती है की मैं तुम्हारा सम्मान करती यदि तुम इस घर से प्यार करती| शर्लिन, प्रीता से कहती है की चुप हो जाओ और अपने हलवे पर ध्यान दो| वरना में सबको बोल दूंगी की ये हलवा अच्छा नहीं बना| प्रीता कहती है की मैं कुछ भी बनाओं तुमको वैसे भी पसंद नहीं आएगा| माहिरा के जैसा तो नहीं होगा मेरा हलवा| जिसे सुनकर शर्लिन प्रीता से चुप रहने को कहती है और प्रीता को जबरदस्ती की बहू कहती है| प्रीता कहती है की हां, मैं हूँ जबरदस्ती की बहूँ, जिसकी वजह तुम हो| और आगे बताती है और ये तुम्हारी सीक्रेट प्रेगनेंसी जो ऋषभ जी की नहीं| और शर्लिन को घटिया लड़की कहती है| 

वहीँ राखी दादी के कमरे में आती और वहां राखी अपनी बहन निम्मी को देखकर बहुत खुश होती है| और दोनों आपस में बहुत बाते करती| निम्मी अपनी बहन पर नाराज होती है की इसने बताया भी नहीं की मेरे बेटे की शादी आ जाना| तभी राखी निम्मी के कान पकड़ लेती है| तभी करण कमरे में आ जाता है और निम्मी बहुत खुश होती है| उर पूछती है कैसा है मेरा सोणा जवान| 

निम्मी राखी से लूथरा परिवार की बहूँ से मिलने को कहती है और आगे कहती है की अभी तक मैं बड़ी बहूँ शर्लिन से भी नहीं मिली हूँ| निम्मी सबसे पहले छोटी बहूँ प्रीता से मिलने की इच्छा जाहिर करती है| और निम्मी प्रीता से मिलने निकल जाती है|

वहीँ सृष्टि अपने आप से बाते कर रही होती है और कह रही होती है की जब मैं समीर से बात करना चाह रही होती है तब उससे बात नहीं होती| लेकिन ये सब सरला सुन रही होती है| सृष्टि को माँ को देख लेती है और डर जाती है| आगे कहती है और बताती है की चाय बनाने के लिए पतीला देख रही थी लेकिन मिली ही नहीं रहा था|

सृष्टि डर-डर के पूछती है की माँ आप क्या सोच रहे है| सरला जबाब देती है की आज हम चाय पियेंगे| क्योंकी प्रीता अपने साथ मिठास साथ में ले गयी है| सृष्टि सरला से कहती है की प्रीता के ससुराल वालों को थोड़ी गलत फहमी है लें वो धीरे-धीरे ठीक हो जायंगी| बातो-बातो में कहती है की सृष्टि को ऐसे ससुराल में नहीं भेजूंगी| सृष्टि माँ से कहती है की अभी तो मेरी उम्र नहीं है| सरला सृष्टि से कहती है की जो लड़का मैं तेरे लिए देखूंगी तू उससे शादी नहीं करेगी| जिससे सुनकर सृष्टि हैरान हो जाती है लेकिन डर-डर के हाँ बोल देती है|

वहीँ प्रीता शर्लिन से कहती है की तुम मेरी शादी करण से नहीं होने देना चाहती थी| प्रीता कहती है की, मैंने कहाँ था की माहिरा को इस घर में मत आने दो| अगर तुमने मेरी बात मानी होती तो मैं इस घर में नहीं आती| आगे कहती है की एक बहरूपिया इस घर से निकल चूका है अब अगले का नंबर है|

तभी वहां पर निम्मी, राखी और करण आ जाती है प्रीता से मिलवान के लिए| लेकिन दोनों को एक साथ देखकर खुश हो जाती है| जब राखी बताती है की ये मेरी बड़ी बहन निम्मी है तभी प्रीता निम्मी के पैर छु लेती है| जिसे देखकर शर्लिन भी छूती है| निम्मी कहती है की मेरे पास देने के लिए हीरे का हार एक ही है लेकिन लोग दो| आगे कहती है जो मेरा दिल जित लेगा ये हीरे का हार उसका| 

जब प्रीता और शर्लिन वहां से चली जाती है| निम्मी प्रीता की बहुत तारीफ करती है ये सभी बाते करण पीछे से खड़े होकर सुन रहा होता है| निम्मी कहती है की करण के लिए बिलकुल सही लड़की चुनी है|                                          

Leave a Reply