Kundali Bhagya 5 November 2020 Written Update: लूथरा हाउस में माहिरा की गृह प्रवेश की हुई तयारी

0

Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌5 October ‌2020‌ ‌Written‌ ‌Update,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌5 October ‌2020,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌5 October ‌2020‌ ‌Spoiler‌ ‌Alert,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌5 October ‌full‌ ‌episode‌ ‌ zee anmol kundali bhagya natak Zee5,‌ ‌ Zee‌ ‌TV,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌, Preeta,Mahira, Sharlin, Karan

Kundali Bhagya 5 November 2020 Written Update

कुंडली भाग्य के आज के नाटक में, सभी लोग हॉस्पिटल से घर जाने के लिए निकाल जाते है तभी माहिरा कृतिका का हाथ पकड लेती है और करण के साथ कार में आगे बैठने के लिए बोलती है और कहती है की मेरी तबियत ख़राब है| माहिरा के इस बर्ताब से कृतिका डर जाती है और उसके मन में माहिरा को लेकर डर बैठ जाता है|

वहीँ सृष्टि और समीर docotor से माहिरा की हालात के बारे में पूछते है| वह docotor बताती है की माहिरा की तबियत बिलकुल ठीक है लेकिन उसके घर वालों को बहुत कुछ हुआ है आगे बताती है की माहिरा ने अपनी कलाई नश के ऊपर से काटी है जिससे उसे कोई भी खतरा नहीं है आगे बोलती है की उसने ये सब सबका ध्यान अपने तरफ खींचने के लिए किया है| यह कहकर docotor वहां से चली जाती है|   

bollypluse, bollypluse write for us
https://bollypluse.in/write-for-us/

Kundali Bhagya 5 November 2020 Full Episode 

वहीँ सभी लोग अपने घर पहुँच जाते है| तभी माहिरा करण को अन्दर जाने के लिए कह देती है और अकेले ही घर के दरवाजे पर प्रीता ने जो किया उसको याद करती है और अपने मन में कहती है की आज इस घर की असली बहू का स्वागत होगा और गृह प्रवेश भी| तभी वहां शर्लिन आ जाती है और माहिरा को अन्दर जाने के लिए कहती है| तभी माहिरा रोते हुए कहती है की मैंने इस घर को अपना मना था और इस घर से मुझे धक्के मारकर निकाल दिया गया| तभी लूथरा परिवार के सभी लोग वहां आ जाते है| 

माहिरा रोते हुए करीना से कहती है की आप चाहते थे की मैं इस घर की बहू बनू| लेकिन जब मुझे इस घर से निकाला जा रहा था तब आपने भी नहीं रोका| माहिरा राखी से कहती है की मैं आपकी वजह से इस घर में आई थी और मैंने कभी सोचा भी नहीं था की आप मुझे ऐसा बोलेंगी| आगे कहती है की इस घर में मेरी इस तरह बेइज्जती हुई मैं उस घर में नहीं आ सकती| आगे बोलती है की क्या गारंटी है की आगे ये सब मेरे साथ नहीं होगा|

दादी माहिरा से कहती है की पुरानी बाते भूल जाओ और मेरे पर विश्वास करो और अन्दर आ जाओ| तभी माहिरा सब से कहती है की मैं अन्दर आ सकती हूँ यहीं मेरी जिन्दगी का अंत हुआ था और मैं अपनी जिन्दगी की शुरुआत यहीं से करुँगी| माहिरा सब से कहती है की मैं इस घर में तभी अन्दर आउंगी जब आप मेरा गृह प्रवेश करोगे|

वहीँ करण अपने कमरे आ जाता है तभी प्रीता, करण से पूछती है की कैसे हो? तब करण प्रीता को थैंक यू बोलता है की मुझे सपोर्ट किया इसलिए| तभी करण कहता है की मैं माहिरा की दवाई देकर आता हूँ इस प्रीता कहती है की इतनी दूर जाने की क्या जरुरत है ग्रीश को भेज दो| तब करण जबाब देता है की दूर कहाँ है वो यही घर पर है| जिसे सुनकर प्रीता हैरान रह जाती है| प्रीता करण से कहती है की ऐसा क्यों कह रहे हो की माहिरा घर में है और वो कहीं जाने वाली नहीं है|

वहीँ राखी, माहिरा से कहती है की हम तुम्हारा गृह प्रवेश कैसे कर सकते है| और तुम इस घर की बहू तो नहीं होआ ना| तभी करीना राखी को रोक लेती है और शर्लिन को कुमकुम का थाल लाने के लिए बोल देती है माहिरा का गृह प्रवेश करने के लिए| जिसे सुनकर राखी हैरान हो जाती है| तभी दादी कहती है की जो करीना बोल रही है वो सब ले आओ| वहीँ राखी दादी से अकेले में ले जाकर बात करने के लिए ले जाती है|

वहीँ शर्लिन अपने आप से कहती है की मैं माहिरा को छोटा-मोटा हवा का झोंका समझती थी और मैंने कभी नहीं सोचा था की वो लूथरा हाउस में एंट्री मार लेगी| वहीँ आगे कहती है वो तो करण को उसका जूनून समझती थी लेकिन वो तो करण से सच्चा प्यार करती है तो प्रीता से उतनी ही नफरत| आगे कहती है की आज तक इतनी तेज़ी से किसी ने किसी को मुह तोड़ जबाब नहीं दिया होगा| जितनी तेज़ी से माहिरा ने प्रीता को|

वहीँ माहिरा लूथरा हाउस की चौखट पर खड़े होकर कह्रती है मैं यहं करण और प्रीता की जोड़ी तोड़ने आई हूँ| करण प्रीता से कहता है की मौत के मुह से वापस आई है और उसकी माँ भी उसको अकेला छोड़ गयी है वो यहाँ नहीं आएगी तो कहाँ जाएगी| इस  पर प्रीता कहती है कहाँ जाएगी का क्या मतलब अपने घर जाएगी| आगे प्रीता कहत है की उन्होंने उस छोड़ा नहीं बस नाराज है और तो उनको कितनी परेशानी हो रही होगी| प्रीता करण को माहिरा को वापस उसकी माँ के पास वापस भेजने को कहती है| 

तभी करण प्रीता से कहता है की उसने मेरे परिवार के लिए कितना कुछ किया और मुझे सबसे ऊपर रक्खा| वो चाहती पुलिस के पास जा सकती थी| लेकिन उसने ये सभी नहीं किया| आगे कहता है की उसने दोस्ती निभाई है तो मैं भी निभाउंगा| वहीँ माहिरा भी सोचती है की अगर में करण को अरेस्ट करवा देती तो करण मुझे दूसरा चांस नहीं देता| आगे सोचती है की मैं करण की साथ हमेशा के लिए रहूंगी और प्रीता को हमेशा के लिए करण से दूर कर दूंगी| आगे सोचती है की ये मेरा प्लान कामयाब हो गया तो मेरी तरफ से करण प्रीता से लडेगा|

वहीँ प्रीता करण को समझाने की कोशिश करती है की माहिरा तुमसे प्यार नहीं करती है तुम उसकी केवल जिद हो| प्रीता करण से कहती है की वो कहीं तुमको भी इस दलदल में ना घसीट ले| आगे कहती है की उसकी वजह से हमारी शादी शुदा जिन्दगी में परेशानी ना आ जाये| तभी करण वहां से जाने लगता है और प्रीता कहती है की माहिरा इस घर की चौखट पर खड़ी है उसको वहीँ से लौटा दो वरना बहुत बड़ा तोफान आएगा| 

वहीँ सरला कहती है की इतनी तेज़ हवा कोई बड़ा तोफान आने वाला है| आगे सोचती है की तोफान की कोई दिशा ना हो तो वो तबाही लाने वाली है| वहीँ माहिरा भी प्रीता की जिन्दगी तबाह करने की प्राण लेती है| वहीँ करण आगे बढता है लेकिन प्रीता का मंगल सूत्र करण के सूट में फस जाता है| और वहीँ शर्लिन की माँ शर्लिन को फ़ोन कर कहती है की अगले आधे घंटे में जो कुछ भी होगा या घर में आयेगा| वो बद से बतर होगा| की वार्निंग देती है |    

Leave a Reply