Kundali Bhagya 8 September 2020 Written Update : करण ने प्रीता को किया पत्नी के रूप में स्वीकार !

0

Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌8 ‌September‌ ‌2020‌ ‌Written‌ ‌Update,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌8 ‌September‌ ‌2020,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌8 ‌September‌ ‌2020‌ ‌Spoiler‌ ‌Alert,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌ ‌8 ‌September‌ ‌full‌ ‌episode‌ ‌ Zee5,‌ ‌ Zee‌ ‌TV,‌ ‌ Kundali‌ ‌Bhagya‌, Preeta,Mahira, Sharlin, Karan

Kundali Bhagya 8 September 2020 Written Update

कुंडली भाग्य के पिछले एपिसोड में, लूथरा हाउस में करण पुलिस को बुलालेता है | करण प्रीता पर उनके पिता महेश को जान से मारने और ऋषभ को प्रथ्वी के साथ इन घटनाओं का इल्जाम लगा देता है | ऋषभ बोलता है प्रीता जी ने उनका किडनैप नहीं किया था | प्रीता अपनी शादी के फोटोज सबूत के तौर पर दिखा देती है | जिससे यह साबित हो जाता है की प्रीता की शादी करण के साथ हुई है | वहीँ पुलिस लूथरा हाउस के सभी लोगों को गिरफ्तार करने की भी वार्निंग देती है | लूथरा हाउस पहुंची पुलिस, क्या प्रीता गिरफ्तार हो जाएगी ?

Kundali Bhagya 8 September 2020 Written Update Upcoming Story 

कुंडली भाग्य नाटक के लेटेस्ट एपिसोड में, ऋषभ करण को कहता है यहाँ पर सभी लोग प्रीता पर बिना सबूत के इल्जाम लगा रहा है | करण ऋषभ से कहता है ये प्रीता आई है इसने तुझे घुट्टी पिला दी है | इसने मुझे भी पिलाने की कोशिश की थी लेकिन मैं तेरे जैसा नहीं हूँ |

करण ऋषभ से कहता है “कहीं ये NGO लेकर आई है इसमें तू भी तो मिला नहीं है |” ऋषभ करण से कहता है तू मुझ पर शक कर रहा है | इसी बीच प्रीता करण से कहती है जो अपने भाई पर विश्वास नहीं करेगा वो मुझ पर क्या करेगा |  

करण प्रीता से अलग ले जा कर कहता है की तुम हमारे बीच क्यों घुस रही हो | प्रीता कहती है तुम घटिया इल्जाम लगा रहे हो अपने भाई पर | जब मैंने ही कोई प्लानिंग नहीं की तो कोई मेरे साथ क्या मिलेगा | आगे कहती है मैं यहं पर अपना अधिकार लेने आई हूँ और ना ही मैं कुछ समझा पहुंगी | मेरा दोस्ती का सारा वक़्त समझाने मैं निकाल गया | 

प्रीता कहती है अब से मैं तुमको विश्वास दिलाने की जगह अपने आप पर विश्वास करुँगी | और जब मैंने ये किया तो मुझे यहाँ आने से कोई नहीं रोक पाया | 

इसी बीच इंस्पेक्टर चिल्लाती है और दोनों को सबके सामने आकर बात करने को कहती है| करण इंस्पेक्टर से कहता है इसके पास 100 तरह के अधिकार है लेकिन मेरे पास कोई अधिकार नहीं है| मैं इसे पत्नी नहीं मानता| इस पर प्रीता करण से कहती है मैं बताती हूँ तुम्हारा अधिकार क्या है , जो तुम्हारा कर्तव्य है तुम वो करो| 

प्रीता करण को समझाती है ऐसे बहुत से काम है जो हमें परिवार की भलाई के लिए करने है| प्लीज तुम मेरा साथ दो| इस करण प्रीता का साथ देने से इंकार कर देता है| इस पर करीना और दादी माँ करण को झूठी लड़की का साथ ना देने के लिए मना करती है| इसी बीच शर्लिन इंस्पेक्टर से प्रीता को पत्नी के रूप में स्वीकार करने के लिए दबाब नहीं दे सकते है |

इस NGO कर्मचारी करण से कहती है अगर तुम सबने प्रीता के खिलाफ बोलना बंद नहीं किया तो इसका इल्जाम बुरा होगा| इस करण बोलने ही वाला होता है इंस्पेक्टर रोक लेती है और वार्निंग देती है की आपकी भलाई चुप रहने में ही है अभी तक आपके खलाफ सारे सबूत सच्चे है| आगे कहती है अगर प्रीता चाहे तो आपके खिलाफ कंप्लेंट दर्ज कर सकती है और आपको उम्र भर की सजा हो सकती है| प्रीता अरोड़ा को बहु के रूप में स्वीकार करने को कहती है|

प्रीता करण से कहती है जब तुमने पहले मुझे छोड़ दिया था तब मैंने काफी समय दिया था| लेकिन अब मैं तुमे समय नहीं दे सकती| और प्रीता करण को उसका हाथ थामने को कहती है वरना कानून का हाथ थामने की वार्निंग देती है | और प्रीता लूथरा हाउस ना जाने की बात  कहती है |

करण सबके सामने प्रीता का सच सबके सामने लाने के लिए, करण प्रीता को पत्नी के रूप में स्वीकार करता है| आगे कहता है आज से प्रीता करण लूथरा है करण लूथरा की धर्म पत्नी| करण के इस फैसले को सुनकर घर के सभी लोग हैरान हो जाते है| इस प्रीता करण से कहती है आखिर में जो सच है वो तुम्हारे मुह से निकला तो सही| 

इंस्पेक्टर प्रीता को बधाई देती है और जाते समय प्रीता को सम्मान के साथ रखने की बात कहती है और कहती है की वो बीच – बीच में देखने के लिए आती रहेगी | इसी बीच शर्लिन और माहिरा वहां से चले जाते है और माहिरा बहुत परेशान हो जाती है करण के इस फैसले से | शर्लिन भी माहिरा के कमरे में आ जाती है |

शर्लिन माहिरा से कहती है अब जो भी करना होगा वो तुमको अकेले ही करना है| शर्लिन उसकी मदद ना करने की बात भी कहती है| शर्लिन माहिरा को एक प्लान बताती है की किसी भी तरह प्रीता को करण के कमरे में जाने से रोकने के लिए| आगे कहती है अगर प्रीता कमरे में चली गयी तो फिर कोई भी कुछ नहीं कर सकता |

वहीँ दूसरी तरफ समीर प्रीता को अपने हक़ के लिए लड़ने की बात सृष्टि को बताने की लिए फ़ोन करता है लेकिन फ़ोन नहीं लगता| इस बीच वहां पर कृतिका और दादी आ जाती है और प्रीता के इस कदम को ठीक नहीं बताती है| आगे कहती है प्रीता दिखती कुछ है और करती कुछ है| समीर समझाने की कोशिश करता है इस कृतिका समीर को कहती है प्रीता ने बाहर वालों की घर में लाकर ठीक नहीं किया| दादी समीर से कहती है प्रीता पहले जैसी नहीं रही है|

वहीँ सरला सृष्टि को लूथरा हाउस फ़ोन कर हालात जानने को कहती है| सृष्टि समीर को फ़ोन करती है लेकिन समीर फ़ोन नहीं उठाता है| तब जानकी कहती है कही समीर भी हमारे खिलाफ तो नहीं| तब सृष्टि सरला को समझाती है समीर हमारे साथ है|

Leave a Reply