दिल्ली : LG और सिसोदिया के बीच हुई बैठक, जून के अंत तक 5 लाख मरीज होने की आशंका 

0

मुंबई के बाद आज देश में सबसे ज्यादा हालत दिल्ली के लोगों की ख़राब है . दिल्ली में कोरोना के मरीजो की संख्या 12-13 दिन में दुगनी हो रही है . इन्ही कारणों के बीच CM अरविन्द केजरीवाल के बयां आया था की कुछ समय तक मतलब जब तक कोरोना के मामले दिल्ली में कम नहीं हो जाते है . तब तक दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों में केवल दिल्ली में रह रहे लोगों का इलाज होगा . लेकिन CM केजरीवाल ने कहा है की दिल्ली में अब सभी राज्य के लोगों का इलाज किया जयेगा .

CM केजरीवाल ने कहा की हमें देश के लोगों की सेवा करने का अवसर मिला है इसलिए अब दिल्ली सभी लोगों का इलाज करेगी . आज दिल्ली में DDMA की बैठक ख़त्म होने के बाद मनीष  सिसोदिया का बयान आया है की 1 जुलाई तक दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या 5 लाख तक जा सकती है .

मनीष सिसोदिया ने बताया की बैठक में इस पर बात की दिल्ली में मरीजो की संख्या किस गति से बड रहे है .दिल्ली में बड़ते मरीजो के आधार पर 30 जून तक 15000 बेड्स की आवश्यकता होगी .15 जुलाई तक 33000 बेड्स की आवश्यकता होगी, और 31 जुलाई तक 80000 बेड्स की आवश्यकता होगी . मरीजो का डाटा बताया की 15 जून तक दिल्ली में 44000 केस होंगे जिनमे 66000 बेड्स की जरुरत पड़ेगी , 15 जुलाई तक सवा 2 लाख हों जायंगे 33000 बेड्स की आवश्यकता होगी , 31 जुलाई तक 5,50000 लाख केस होंगे जिनमे 80000 बेड्स की आवश्यकता होगी . ये डाटा तब है जब lockdown चल रहा था . यह उन लोगों के लिए जो दिल्ली में इस बक्त रह रहा था . इसी वजह से दिल्ली की कैबिनेट ने फैसला लिया था की जब तक कोरोना है तब तक दिल्ली वालो का ही इलाज हो . इस फैसले को LG ने पलट दिया था . ऐसा मनीष सिसोदिया का कहना है . 

मनीष सिसोदिया ने DDMA की बैठक में LG साहब से पूछा की अपने इस फैसले से पहले कोई आंकलन किया होगा, तब उनके पास कोई आईडिया नहीं था . उन्होंने यह भी LG से पूछा की जब सारे देश से दिल्ली में लोग अपना इलाज करने आयेंगे तब कितने बेड्स की आवश्यकता होगी . इस पर भी उनका कोई जबाब नहीं था . मनीष सिसोदिया का यह भी कहना है की जब दिल्ली में सभी लोगों का इलाज करने का फैसला लिया है ,उसमें दिल्ली वालो को परेशानी का सामना करना पड़ेगा . मनीष सिसोदिया ने यह भी कहा की केसेस बढने लगे तब इन सबकी जिम्मेदारी कौन लेगा ?  और उन्होंने यह भी पूछा की जब बाहर से भी लोग आएंगे तब दिल्ली में उपलब्ध बेड्स भर जायंगे, तो इन बेड्स का इन्तेजाम कैसे होगा , इस पर भी LG का कोई जबाब नहीं आया .   

जब रिपब्लिक के रिपोर्टर ने पूछा था की दिल्ली में कम्युनिटी स्प्रैड्स है ? तब उन्होंने कहा की टेक्निकल ना जा एम्स के डायरेक्टर ने कहा की दिल्ली में कम्युनिटी स्प्रैड्स है . लेकिन उन्होंने कहा की केंद्र सरकार फैसला लेगी की दिल्ली में कम्युनिटी स्प्रैड्स है या नहीं . लेकिन उनका सिसोदिया का कहना है की कम्युनिटी स्प्रैड्स है . 

Leave a Reply