महिलाएं गर्भावस्था के दौरान Diet में शामिल करे ये 5 चीजें

0

गर्भावस्था के समय स्त्री के स्वास्थ्य का ख़ास ख्याल रखा जाना होता है क्योंकी इस समय खान-पान ठीक ना होने से महिला और बच्चे की सेहत पर गलत प्रभाव पड़ता है । शिशु के विकास और स्त्री के सेहत हेतु पौष्टिक आहार पर अधिक ध्यान देना चाहिए । गर्भावस्था के समय महिला के आहार में प्रोटीन और विटामिन्स पर ख़ासा ध्यान देना चाहिए । 

Pregnancy, Diet

गर्भावस्था के समय महिला को लीन प्रोटीन, साबुत अनाज, फल, सब्जियां और डॉ० (doctar) की सलाह से उन दालों और सब्जियों को डायट में अवश्य शामिल करें जिनमें प्रोटीन की मात्रा अधिक हो । क्योंकी ज्यादातर उन महिलाओं को पता नहीं होता की इस स्थ्ति में किन-किन चीजों को डायट में शामिल करना होता है । आगे देखते है की और किन – किन खाने की चीजो को गर्भावस्था के समय शामिल कर सकते है । 

कैल्शियम : कैल्शियम शरीर की तंत्रिका तंत्र, कैल्शियम परिसंचरण और मस्कुलर को सामान्य रूप से काम करने में मदद करता है । जिससे गर्भवती महिला को उठने-बैठने किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता । प्रेग्नेंट महिला को प्रतिदिन 1,000 से 1,300 मिग्रा कैल्शियम की आवश्यकता होती है । कैल्शियम की आपूर्ति को पूरा करने के लिए डेयरी उत्पादों से आसानी से पूरा कर सकते हैं । इसके अलावा भी आप ब्रोकली का भी कैल्शियम की पूर्ति के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं ।

विटामिन डी : शिशु की हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाने के लिए विटामिन डी की अहमियत अधिक होती है । विटामिन डी इम्‍यून सिस्टम शरीर को संक्रमण से सुरक्षा प्रदान करता है । गर्भवती महिला को प्रतिदिन 600 आईयू की आवश्यकता होती है । आप प्रीनैटल विटामिन और विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों से इसकी पूर्ति कर सकते हैं । दूध, फैटी फिश और अनाज से विटामिन डी प्राप्त कर सकते हैं । और धूप सेखने से भी विटामिन डी प्राप्त होता है ।

आयरन : यदि शरीर में आयरन की कमी होने से अनेकों प्रकार के संक्रमण होने के खतरे बढ़ जाते हैं जिनमें एनीमिया, मकान, प्रीमैच्योर लेबर या शिशु के जन्म के समय वजन कम होने जैसी संबंधित समस्याएं । एक सामान्य महिला के तुलना में गर्भवती महिला को दुगनी मात्रा में आयरन की जरूरत होती है । गर्भवती महिला को रोजाना 27 मिलीग्राम आयरन की जरूरत होती है । आयरन की आपूर्ति को  लीन मीट, अनाज, ब्रेड, हरी पत्तेदार सब्जी, नट्स, किशमिश, अंडे, सूखे मेवे, जैसी सामग्रियों से पूर्ति कर सकते हैं । 

Dhage Wali Mishri Ke Fayde || धागे वाली मिश्री के फायदे || मिश्री खाने के फ़ायदे

फोलिक एसिड : शिशु के बच्चे के दिमाग और स्पाइनल कॉर्ड में होने वाली गंभीर असामान्यता होने का खतरा बढ़ जाता है, जिसका कारण फोलिक एसिड होता है । फोलिक एसिड को आप सामान्य रूप से सप्लीमेंट और खाद्य पदार्थ के जरिये ले सकती है । आप रोज़ाना हरी पत्तेदार सब्जियाँ, खट्टे फल और बीन्स प्राकृतिक स्रोत है ।

आयोडीन: शिशु के तंत्रिका तंत्र और मस्तिष्क विकास हेतु आयोडीन की आवश्यकता होती है । गर्भवती महिलाओं को रोजाना 230 माइक्रोग्राम आयोडीन की आवश्यकता होती है । आयोडीन की कमी के लिए मछली, दूध, योगर्ट आदि से आयोडीन की पूर्ति की जा सकती है । 

Leave a Reply